मोटर इंश्योरेंस एजेंट बनें

35,000+ Partners have earned 674 Crore+ with Digit.
Full Name is required Maximum 150 characters allowed
RM Code is required
POSP Code is required
Enter Valid Email Address
Pincode is required Please enter 6 digit pincode
Mobile Number is required Enter valid mobile number Mobile Number Of Digit Employee Is Not Allowed
Enter Valid OTP
Didn’t receive SMS? Resend Otp

I agree to the Terms & Conditions

Please accept terms and conditions

मोटर इंश्योरेंस एजेंट कौन होता है?

एक मोटर इंश्योरेंस एजेंट वह होता है जो विशेष तरह के मोटर इंश्योरेंस प्रोडक्ट को बेचने के लिए किसी इंश्योरेंस कंपनी के साथ काम करता है। यदि आप एक अच्छे और कामयाब मोटर इंश्योरेंस एजेंट या पीओएसपी बनना चाहते हैं, तो आपको ग्राहकों को उनकी मोटर वाहन से संबंधित जरूरतों के हिसाब से सभी इंश्योरेंस प्लान में से बिलकुल सही मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी चुनने में उनकी मदद करनी होगी।

डिजिट से आप कार, बाइक (2-व्हीलर) और कमर्शियल व्हीकल पॉलिसी खरीद सकते हैं।

मोटर इंश्योरेंस क्या है?

एक मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी का उपयोग कार, टू-व्हीलर, ऑटो या ट्रक जैसे कमर्शियल वाहन को कवर करने के लिए किया जा सकता है और भारत में यह सभी वाहनों के लिए जरूरी है। लोगों के पास यह होना बहुत ही जरूरी है, जिससे वे एक्सीडेंट और प्राकृतिक आपदाओं (बाढ़, भूकंप वग़ैरह) के मामले में होने वाले नुकसान और क्षति के लिए कवर हो सकें।

मोटर इंश्योरेंस प्लान मोटे तौर पर तीन प्रकार के होते हैं:

  • थर्ड-पार्टी मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी,
  • ओन डैमेज (OD) मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी और
  • कॉप्रेहेंसिव (या स्टैण्डर्ड) मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी।
  • भारत में मोटर व्हीकल एक्ट द्वारा थर्ड-पार्टी मोटर इंश्योरेंस होना अनिवार्य है, जिसके ना होने पर लोग भारी जुर्माने के लिए जिम्मेदार होंगे। यह वाहन मालिक को किसी भी तरह के ऐसे नुकसान से होने वाले खर्च से बचाता है जो उसकी कार द्वारा किसी थर्ड-पार्टी के वाहन, व्यक्ति या संपत्ति को नुकसान पहुंचाने से होते हैं।
  • ओन डैमेज (OD) इंश्योरेंस पॉलिसी, जो एक कस्टमाइज्ड मोटर इंश्योरेंस पॉलिसी है जिसमें वाहन मालिक खुद को और अपने वाहन को, किसी भी तरह की क्षति और नुकसान से बचाता है।
  • कॉप्रेहेंसिव मोटर इंश्योरेंस, थर्ड-पार्टी की क्षति और नुकसान और खुद के नुकसान दोनों से पूरी सुरक्षा प्रदान करता है। इसमें एक्सीडेंट, प्राकृतिक आपदा, आगजनी या चोरी जैसे अप्रत्याशित नुकसान से सुरक्षा भी शामिल है।

डिस्क्लेमर - इसमें एजेंट के लिए कोई विशेष श्रेणी नहीं है। यदि आप एक जनरल इंश्योरेंस एजेंट बनने के लिए रजिस्ट्रेशन कराते हैं, तो आप सभी तरह के जनरल इंश्योरेंस प्रोडक्ट बेच सकते हैं।

Read More

भारत में मोटर इंश्योरेंस इंडस्ट्री के बारे में कुछ रोचक जानकारी:

1
भारत में मोटर इंश्योरेंस, नॉन-लाइफ इंश्योरेंस मार्केट का 39.4% है।
2
भारतीय कार इंश्योरेंस सेक्टर लगभग ₹70,000 करोड़ का है।
3
कार इंश्योरेंस इंडस्ट्री ने 2012  से अब तक 11.3% की बढ़ोतरी दर्ज की है।

डिजिट के साथ ही मोटर इंश्योरेंस एजेंट क्यों बनें?

इस बारे में और ज्यादा जानकारी प्राप्त करें कि आपको मोटर इंश्योरेंस एजेंट क्यों बनना चाहिए और आपको डिजिट ही क्यों चुनना चाहिए?

डिजिट के साथ सीधे काम करें

हमारे पीओएसपी पार्टनर के रूप में, आप सीधे हमारे साथ काम करेंगे। इसमें कोई और अन्य बिचौलिया शामिल नहीं है। डिजिट आज भारत की सबसे तेजी से बढ़ने वाली इंश्योरेंस कंपनियों में से एक है। डिजिट वर्तमान में एशिया की "जनरल इंश्योरेंस कंपनी ऑफ द ईयर 2019" से सम्मानित होने वाली सबसे कम उम्र की कंपनी हैं।

यह इंश्योरेंस आसान बनाता है

हम इंश्योरेंस को सरल बनाने में विश्वास रखते हैं और यही कारण है कि हमारे सभी डॉक्युमेंट इतने सरल होते हैं कि 15 साल के बच्चे भी उन्हें आसानी से समझ सकते हैं।

स्ट्रांग बैकएंड सपोर्ट

हमारे मुख्य स्तंभ के रूप में टेक्नोलॉजी के साथ, हम आपको एक समर्पित सपोर्ट टीम और एक एडवांस वेब और मोबाइल ऐप प्रदान करते हैं जो आपको 24x7 पॉलिसी बेचने की अनुमति देता है!

फेसबुक पर इसकी रेटिंग 4.8

हम अपने ग्राहकों को संतुष्ट रखने में विश्वास करते हैं और हमारी फेसबुक रेटिंग 4.8/5 है, जो किसी भी इंश्योरेंस कंपनी के लिए सबसे ज्यादा है।

सुपर-फास्ट ग्रोथ

इतने कम समय में ही, हमारा मार्केट शेयर पहले ही मोटर इंश्योरेंस के क्षेत्र (पिछली तिमाही में) में 2% से ज्यादा तक पहुंच चुका हैं।

हाई क्लेम सेटलमेंट

हमारे पास प्राइवेट कारों के लिए, जितने भी क्लेम आए हैं उनमें से हमने उन सभी प्राइवेट कारों के क्लेम का 96% तक का सैटलमेंट कर दिया है।

पेपरलेस प्रोसेस

पॉलिसी जारी करने से लेकर क्लेम करने तक, हमारा सारा प्रोसेस पूरी तरह से ऑनलाइन है। आपको कोई कागजी कार्रवाई (पेपरवर्क) नहीं करनी है। आपको बस एक स्मार्टफोन/कंप्यूटर और एक इंटरनेट कनेक्शन चाहिए। तो, अब आप घर से या कहीं और से भी काम कर सकते हैं।

क्विक कमीशन सैटलमेंट

चिंता न करें, हम आपके साथ हैं। हमारे सभी कमीशन त्वरित रूप से निपटाए जाते हैं। पॉलिसी जारी होने के हर 15 दिनों में आपका कमीशन आपके एकाउंट में जमा हो जाएगा।

मोटर इंश्योरेंस एजेंट कैसे बनें?

डिजिट के साथ मोटर इंश्योरेंस एजेंट/पीओएसपी कैसे बनें?

स्टेप 1

हमारे द्वारा दिए गए पीओएसपी फॉर्म को भरकर साइन अप करें, सारी डिटेल भरें और जरूरी डॉक्युमेंट अपलोड करें।

स्टेप 2

हमारे साथ अपनी 15 घंटे की ट्रेनिंग पूरी करें।

स्टेप 3

निर्धारित परीक्षा को पास करें।

स्टेप 4

आप हमारे साथ एक एग्रीमेंट साइन करें और बस! आप एक सर्टिफाइड पीओएसपी बन गए।

आप एक इंश्योरेंस एजेंट या पीओएसपी बनकर कितना कमा सकते हैं?

एक इंश्योरेंस एजेंट के रूप में आपकी कमाई आपके द्वारा बेची जाने वाली पॉलिसी की संख्या पर निर्भर करती है। आप जितनी ज्यादा पॉलिसी बेचते हैं, आपकी कमाई भी उतनी ही ज्यादा होती है। एक मोटर इंश्योरेंस एजेंट कार, बाइक और कमर्शियल वाहन, किसी के लिए भी इंश्योरेंस पॉलिसी बेच सकता है। इसका मतलब यह है कि आप ग्राहकों को कॉप्रेहेंसिव और स्टैंडअलोन दोनों तरह की पॉलिसी बेच सकते हैं, जिसके लिए कमीशन स्ट्रक्चर नीचे दिया गया है:

पॉलिसी और वाहन का प्रकार

वाहन कितना पुराना है

कमीशन की अधिकतम दर

कमीशन की अधिकतम दर

1-3 साल पुराने

ओन डैमेज प्रीमियम का 15%

कॉप्रेहेंसिव पॉलिसी: 2- व्हीलर

1-3 साल पुराने

ओन डैमेज प्रीमियम का 17.5%

कॉप्रेहेंसिव पॉलिसी: 4-व्हीलर और अन्य प्रकार के प्राइवेट या कमर्शियल वाहन

4 साल या उससे ज्यादा पुराने

ओन डैमेज प्रीमियम का 15% + थर्ड-पार्टी प्रीमियम का 2.5%

कॉप्रेहेंसिव पॉलिसी: 2-व्हीलर वाहन

4 साल या उससे ज्यादा पुराने

ओन डैमेज प्रीमियम का 17.5% + थर्ड-पार्टी प्रीमियम का 2.5%

स्टैंडअलोन थर्ड-पार्टी लायबिलिटी पॉलिसी: सभी प्रकार के वाहन

कितने भी पुराने

प्रीमियम का 2.5%

 सोर्स: IRDAI

मुझे मोटर इंश्योरेंस एजेंट क्यों बनना चाहिए?

अपने बॉस खुद बनें

पीओएसपी बनने का पहला फायदा यह है कि आप अपनी सुविधा के अनुसार ही अपना काम करते हैं यानि आप अपनी मर्जी के मालिक हैं, या ये कहें कि आप अपने बॉस खुद ही हैं।

काम करने की कोई टाइम लिमिट नहीं है

इसका दूसरा फायदा यह है कि इसमें काम करने की कोई टाइम लिमिट नहीं है यानि यह आप तय करते हैं कि आपको पार्ट-टाइम काम करना है या फुल-टाइम, और उसी के अनुसार आप अपने काम के घंटे तय करते हैं।

घर से काम करने की सुविधा

डिजिट इंश्योरेंस में, हम ज्यादातर इंश्योरेंस पॉलिसी ऑनलाइन ही बेचते हैं। इसका मतलब यह है कि आप एक पीओएसपी के रूप में घर से ही काम कर सकते हैं और इंश्योरेंस पॉलिसी को बेचने और जारी करने के लिए हमारे ऑनलाइन प्रोसेस का उपयोग कर सकते हैं।

सिर्फ 15 घंटे की ट्रेनिंग

पीओएसपी बनने के लिए, जरूरी क्राइटेरिया में से एक IRDAI द्वारा दिए जाने वाली 15 घंटे की जरूरी ट्रेनिंग को पूरा करना है, जो कि वास्तव में बहुत ज्यादा मुश्किल नहीं है। एजेंट बनने के लिए आपको केवल 15 घंटे देने होंगे।

ज्यादा कमाई की संभावना

आपकी कमाई काम किए गए घंटों पर नहीं बल्कि आपके द्वारा बेची जाने वाली पॉलिसी की संख्या पर निर्भर करती है।

शून्य निवेश

पीओएसपी बनने के लिए एक स्मार्टफोन, एक अच्छा इंटरनेट कनेक्शन और 15 घंटे की जरूरी ट्रेनिंग के अलावा, आपको और कुछ नहीं चाहिए। इसलिए, आपकी तरफ से (लगभग) कोई पैसा खर्च करने की जरूरत नहीं है, जबकि कमाई की संभावना बहुत ज्यादा है।

सामान्यतः पूछे जाने वाले सवाल (FAQs):