डिजिट हेल्थ इंश्योरेंस में कमरे के किराए यानि रूम रेंट पर कोई कैपिंग नहीं

र्घटना, बीमारी और कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती होने पर होने वाले ख़र्च को कवर करता है।
Happy Couple Standing Beside Car
{{healthCtrl.residentPincodeError}}
Send OTP OTP Sent {{healthCtrl.mobileNumberError}}

I agree to the  Terms & Conditions

Port my existing Policy
{{healthCtrl.residentPincodeError}}
Send OTP OTP Sent {{healthCtrl.mobileNumberError}}
{{healthCtrl.otpError}}
Didn't receive SMS? Resend OTP

I agree to the  Terms & Conditions

Port my existing Policy

YOU CAN SELECT MORE THAN ONE MEMBER

{{healthCtrl.patentSelectErrorStatus}}

  • -{{familyMember.multipleCount}}+ Max {{healthCtrl.maxChildCount}} kids
    (s)

DONE
Renew your Digit policy instantly right
Loader

Analysing your health details

Please wait moment....

हेल्थ इंश्योरेंस में कमरे के किराए पर कोई कैपिंग नहीं होने का क्या मतलब है?

उदाहरण के ज़रिए आपके लिए इसे समझना आसान बनाते हैं- आप बैंगलोर जैसे ज़ोन बी शहर में 4 दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती होते हैं, यह मानते हुए कि आपके पास ₹3 लाख का बेसिक हेल्थ इंश्योरेंस है, और आपकी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी आपके लिए, आपके एसआई के 1% तक की किराये की कैप, यानी ₹3,000/दिन रखती है।

कमरे के किराए पर कैप के बिना डिजिट हेल्थ इंश्योरेंस कमरे के किराए की कैपिंग के साथ दूसरे इंश्योरेंस
सम इंश्योर्ड ₹3 लाख ₹3 लाख
कमरे के किराए पर कैप कमरे के किराए पर कोई कैप नहीं सम इंश्योर्ड का 1% यानी ₹3000
अस्पताल में भर्ती होने के दिनों की संख्या 4 4
प्राइवेट वार्ड के लिए कमरे का किराया (प्रति दिन) ₹5000 ₹5000
4 दिनों के लिए कुल कमरे का किराया ₹20000 ₹20000
इंश्योरेंस कंपनी द्वारा कवर किया गया कुल कमरा किराया ₹20000 ₹12000
आपके द्वारा की जाने वाली पेमेंट ₹0 ₹8000

जैसा कि आप देख सकते हैं, क्योंकि आपकी हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी आपके कमरे के किराए पर कैपिंग रखती है, तो आपको कम से कम ₹8,000 से ज़्यादा (कमरे के किराए पर कैपिंग होने पर एक्स्ट्रा अमाउंट) की पेमेंट करनी होगी।

हालांकि, अगर आपके हेल्थ इंश्योरेंस में कमरे के किराए पर कोई कैपिंग नहीं है तो आपको एक्स्ट्रा अमाउंट पेमेंट करने की ज़रूरत नहीं होगी।

भारत में अस्पताल में कमरे का औसत किराया क्या है?

भारत के अस्पतालों में अलग अलग कमरे के किराए की औसत लागत को समझने के लिए नीचे सारणी दी गई है जिसमें आईसीयू कमरा भी शामिल हैं:

अस्पताल के कमरे के प्रकार ज़ोन ए ज़ोन बी ज़ोन सी
जनरल वार्ड ₹1432 ₹1235 ₹780
सेमीप्राइवेट वार्ड (2 या ज़्यादा के साथ शेयरिंग) ₹4071 ₹3097 ₹1530
प्राइवेट वार्ड ₹5206 ₹4879 ₹2344
आईसीयू ₹8884 ₹8442 ₹6884

नोट - कृपया ध्यान दें कि यह केवल रेफ़रेंस के लिए है और कॉस्ट एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल और एक शहर से दूसरे शहर में अलग-अलग हो सकती है।

डेटा स्रोत

आपके हेल्थ इंश्योरेंस में कमरे के किराए पर कोई कैपिंग नहीं होने के फ़ायदे

Choose any hospital room you prefer

अस्पताल में अपनी पसंद का कोई भी कमरा चुनें

आपके हेल्थ इंश्योरेंस में कमरे के किराए पर कोई कैपिंग नहीं होने का सबसे बड़ा फ़ायदा यह है कि अस्पताल में कमरा चुनने के लिए आपके ऊपर कोई पाबंदी नहीं होगी। हर किसी की अलग-अलग प्राथमिकताएं होती हैं और कमरा चुनने का विकल्प मिलने पर, अस्पताल में आपका अनुभव और बेहतर हो सकता है। भले ही आपको दो अन्य रोगियों के साथ कमरा शेयर करने में कोई दिक्कत न हो या आप अपने लिए पर्सनल कमरा चाहते हैं, यह चुनाव आपको करना है!

Freedom to use your health insurance the way you like

अपनी पसंद के अनुसार अपने हेल्थ इंश्योरेंस का इस्तेमाल करने की स्वतंत्रता

आप नार्मल कमरा चुनें या फिर डीलक्स कमरा चुनें; आपका क्लेम आपके इलाज और अस्पताल के ख़र्चों की कुल अमाउंट के आधार पर रजिस्टर्ड है। कमरे के किराए की कैप पर कोई लिमिट ना होने से आप ख़र्चों और पूरे इलाज पर कितना ख़र्च करना है, को अपने मुताबिक़ तय कर सकते हैं। बेशक, यह तब तक होगा जब तक आपका टोटल क्लेम अमाउंट आपके सम इंश्योर्ड के दायरे में है।

Comfortable stay at the hospital

अस्पताल में आराम से रहें

जब आप बीमार होते हैं या आपका इलाज हो रहा होता है, उस समय आप केवल आराम चाहते हैं। आपकी पसंद के आधार पर, कमरे के किराए पर कोई कैप नहीं होने से आप उस कमरे को चुन सकते हैं जिसमें आप सबसे ज़्यादा आराम महसूस करते हैं, और इस प्रकार आप अस्पताल में आराम से रह सकते हैं।

डिजिट के हेल्थ इंश्योरेंस के साथ कमरे के किराए पर कोई कैपिंग नहीं होने का क्या फ़ायदा है?

  • आसान ऑनलाइन प्रोसेस - हेल्थ इंश्योरेंस खरीदने से लेकर क्लेम करने तक का प्रोसेस पेपरलेस, आसान, त्वरित और झंझटमुक्त है! क्लेम करने के लिए किसी हार्ड कॉपी की ज़रूरत नहीं होगी।
  • महामारी को कवर करता है - आज के समय में कुछ पता नहीं चलता, हम कभी भी किसी बीमारी या महामारी की चपेट में आ सकते हैं और हम इस समस्या को भली भांति समझते हैं। कोरोनावायरस के महामारी होने के बावजूद भी हम इसके इलाज को कवर करते हैं!
  • आयु के आधार पर कोई को-पेमेंट नहीं - हमारे हेल्थ इंश्योरेंस में आयु के आधार पर कोई को-पेमेंट नहीं करनी पड़ती है। इसका मतलब है, आपके क्लेम के दौरान- आपको अपनी जेब से कुछ भी पेमेंट करने की ज़रूरत नहीं है।
  • 2X सम इंश्योर्ड - अगर आपका सम इंश्योर्ड समाप्त हो जाता है और इसी साल के दौरान आपको फिर से इसकी ज़रूरत पड़ती है, तो हम इसे आपके लिए रिफ़िल करने की सुविधा भी देते हैं।
  • क्यूमुलेटिव बोनस - स्वस्थ रहने का इनाम! वार्षिक क्यूमूलेटिव बोनस पाएं।
  • किसी भी अस्पताल में इलाज कराएं - कैशलेस क्लेम के लिए भारत में हमारे 5900+ नेटवर्क अस्पतालों में से चुनें या रिंबर्समेंट का विकल्प चुनें।