हेल्थ इंश्योरेंस ऑनलाइन खरीदें
डिजिट हेल्थ इंश्योरेंस चुनें
Happy Couple Standing Beside Car
Chat with an expert

I agree to the  Terms & Conditions

Port my existing Policy
Renew your Digit policy

(Incl 18% GST)

लाइफ इंश्योरेंस और हेल्थ इंश्योरेंस के बीच में अंतर

हेल्थ इंश्योरेंस और लाइफ इंश्योरेंस के बीच अंतर

लाइफ इंश्योरेंस

हेल्थ इंश्योरेंस

लाइफ इंश्योरेंस कॉम्प्रिहेंसिव कवर है जो आपको पूरे जीवन इंश्योरेंस देता है, ये किसी खास अवधि तक सीमित नहीं होता है। असल में इससे इंश्योर्ड की निधन की स्थिति में कवरेज मिलती है, इसमें इंश्योर की हुई राशि लाभार्थी के पास जाती है।

आमतौर पर इंश्योरेंस आपकी मेडिकल/सर्जिकल/अस्पताल से जुड़ी जरूरतों को पूरा करता है। जरूरत होने पर सिर्फ मेडिकल इमर्जेंसी कवर देता है। ये आपके मेडिकल खर्चों से आगे नहीं जाता है।

चुने हुए लाइफ इंश्योरेंस के आधार पर प्रीमियम निश्चित और लचीले दोनों होते हैं। बेहतर नगद मूल्य के लिए कुछ लाइफ इंश्योरेंस भविष्य में निवेश की मूल्य नीतियों के साथ भी आते हैं।

ज्यादातर प्रीमियम निश्चित होता है। हेल्थ इंश्योरेंस मेडिकल इमर्जेंसी के दौरान हुए खर्चों से कवरेज देता है। इन प्लान का मकसद निवेश नहीं बल्कि सुरक्षा होता है। कुछ मामलों में नो-क्लेम बोनस का दावा किया जा सकता है।

लाइफ इंश्योरेंस एक लॉन्ग-टर्म प्लान है।

हेल्थ इंश्योरेंस एक शॉर्ट-टर्म प्लान है।

लाइफ इंश्योरेंस आमतौर पर निश्चित अवधि के लिए होता है। एक बार इंश्योरेंस की अवधि पूरी हो जाने पर आमतौर पर ये समाप्त हो जाता है।

इस तरह के इंश्योरेंस की अवधि निश्चित नहीं होती है। साधारण परिस्थितियों में इंश्योर्ड पॉलिसी को सालाना रिन्यू करा लेता है ताकि उन्हें इसमें ऑफर होने वाली सुरक्षा कवरेज मिलती रहे।

इंश्योर्ड की मृत्यु हो जाने की स्थिति में लाइफ इंश्योरेंस आपके परिवार/लाभार्थी/नॉमिनी को खासतौर पर आर्थिक सुरक्षा देता है।

हेल्थ इंश्योरेंस आपके साथ आपके परिवार के लिए सुरक्षा कवर है ताकि आर्थिक तंगी के कारण जानमाल के नुकसान जैसी किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना से बचा जा सके।

आपकी ओर से चुने गए इंश्योरेंस के आधार पर लाइफ इंश्योरेंस इंश्योरेंस अवधि खत्म होने के समय सर्वाइवल और मृत्यु फायदे देता है।

हेल्थ इंश्योरेंस में सर्वाइवल और मृत्यु फायदे नहीं मिलते हैं, ये सिर्फ आपकी मौजूदा मेडिकल जरूरतों और इलाज को ही पूरा करता है।

कुछ मामलों में थोड़े अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करके, आपकी निवेश की हुई राशि मैच्योरिटी के समय पॉलिसी अवधि समाप्त कर लेने पर आपके पास करमुक्त वापस आ जाती है।

पॉलिसी अवधि पूरी हो जाने पर कोई भी राशि वापस नहीं की जाती है। राशि सिर्फ रीइंबर्समेंट के तौर पर वापस आती है वो भी आपकी बीमारी के दौरान हुए या मेडिकल जरूरतों के लिए आपकी ओर से किए गए खर्चों के लिए।

लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस के फायदे