हेल्थ इंश्योरेंस ऑनलाइन खरीदें

डिजिट हेल्थ इंश्योरेंस चुनें

लाइफ इंश्योरेंस और हेल्थ इंश्योरेंस के बीच में अंतर

क्या आप भविष्य के लिए योजना बनाने में विश्वास रखते हैं ? अगर हां, तो लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस खरीदना आपका अगला कदम होना चाहिए ।  इन पॉलिसी के बारे में सबकुछ समझना चाहते हैं?  पढ़ें और हमारे साथ अपनी जानकारी बढ़ाएं।

लाइफ इंश्योरेंस क्या है ?

लाइफ इंश्योरेंस आपकी व्यक्तिगत सुरक्षा की तरह है जिसका फायदा परिवार के सदस्य तब ले सकते हैं, जब उनकी जरूरत पूरी करने के लिए आप उनके आसपास न हों।  यह इंश्योर्ड व्यक्ति और इंश्योरेंस कंपनी के बीच एक बांड है जो इंश्योर्ड व्यक्ति की दुर्भाग्यवश मृत्यु हो जाने के बाद उनकी ओर से दिए गए लाइफ इंश्योरेंस के प्रीमियम का फल वित्तीय फायदों के तौर पर नॉमिनी/ लाभार्थी को देता है। 

ज्यादातर मामलों में मृत्यु के फायदे आयकर मुक्त होते हैं। तो, इंश्योर की गई राशि बिना किसी संभावित कटौती के परिवार को मिल जाती है।  लाइफ इंश्योरेंस आपकी पूरी लाइफ के लिए इंश्योरेंस कवर ऑफर करता है।  आप इसको अपने परिवार के लिए भविष्य की सुरक्षित बचत योजना की तरह मान सकते हैं ।

 

लाइफ इंश्योरेंस की दो खास श्रेणियां हैं:

  • पूरी लाइफ का इंश्योरेंस  में अक्सर निश्चित प्रीमियम भुगतान के साथ आता है और आमतौर पर लाभार्थी को कर मुक्त और निश्चित इंश्योर की हुई राशि देता है।  यूनिवर्सल लाइफ की तुलना में यह इंश्योरेंस सस्ता होता है, फिर चाहे बात निरंतरता और कम या बिल्कुल भी जोखिम न होने की ही क्यों न हो। कुछ मामलों में, व्यक्ति इस तरह की पॉलिसी के बदले ऋण भी ले सकते हैं।

  • यूनिवर्सल लाइफ इंश्योरेंस नॉमिनी को इंश्योर्ड की मृत्यु के बाद फायदे भी देता है लेकिन इसको इंश्योरेंस पॉलिसी भी माना जा सकता है। इसके प्रीमियम का भुगतान आमतौर पर लचीला होता है और भुगतान के एक हिस्से को इंश्योर की हुई राशि में कैश वैल्यू जोड़ने के लिए निवेश किया जाता है। पूरे लाइफ इंश्योरेंस या टर्म इंश्योरेंस से इतर, इस तरह के इंश्योरेंस महंगे होते हैं, ज्यादा रिटर्न के लिए निवेश की प्रकृति को देखते हुए कभी-कभी संभावित जोखिम भी हो सकते हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए ऐसे प्लान के प्रीमियम लचीले होते हैं और इंश्योर्ड की मृत्यु के बाद लचीले फायदे भी देते हैं।

हेल्थ इंश्योरेंस क्या है?

हेल्थ इंश्योरेंस इंश्योर्ड और इंश्योरेंस कंपनी के बीच हुआ अनुबंध है जो इलाज के समय आपको वित्तीय मदद देते हैं।   इंश्योर्ड अपने हेल्थ कवर के लिए निश्चित प्रीमियम का भुगतान करता है:

अगर आपके पास हेल्थ इंश्योरेंस है, तो आपको या तो अपनी जेब से दिए इलाज पर हुए खर्चों का भुगतान मिल सकता है या फिर इंश्योरेंस कंपनी आपकी जगह इलाज के खर्चों का भुगतान करेगी, ये दोनों ही आपकी ओर से चुनी गई हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी पर निर्भर करेगा। कुछ खास हेल्थ प्लान दवाओं के प्रिस्क्रिपशन की कीमत को भी कवर करते हैं।

 

हेल्थ इंश्योरेंस की तीन खास श्रेणियां हैं:

  • व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस - एक व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस  किसी के भी जीवन में आने वाली विभिन्न बीमारियों, दुर्घटनाओं, अस्पताल के खर्चों और अन्य चिकित्सीय आपातकाल के समय एक व्यक्ति को कवर देने वाली एक तरह की खास पॉलिसी है।  इसके अतिरिक्त, व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस प्लान अतिरिक्त फायदों जैसे मातृत्व लाभ, ओपीडी के खर्च, गंभीर बीमारी के लिए कवर, आयुष वगैरह के लिए दिए जाते हैं। 

  • फ़ैमिली फ़्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस - फ़ैमिली फ़्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस एक ऐसी पॉलिसी है जिसे एक ही प्रीमियम के तहत पूरे परिवार के लिए बनाया जाता है।  यह ही परिवार के सभी सदस्यों को पूरे जीवन में कभी भी हो सकने वाली विभिन्न बीमारियों, दुर्घटनाओं, अस्पताल में भर्ती होने के साथ अन्य मेडिकल जरूरतों के लिए कवर करता है। 

  • सीनियर सिटीजन हेल्थ इंश्योरेंस - जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है  सीनियर सिटीजन हेल्थ इंश्योरेंस ऐसी इंश्योरेंस पॉलिसी जो खास तौर पर 60 साल की उम्र पार कर चुके लोगों के लिए बनाई गई है। इसको बनाते हुए सीनियर सिटीजन की अलग शारीरिक और मानसिक जरूरतों को ध्यान में रखा गया है। इसमें घर पर होने वाले इलाज, आयुष, अंग दान पर होने वाले खर्चे और गंभीर बीमारी में इलाज जैसे फायदे मिलते हैं।

ज्यादा पढ़ें भारत में कोविड 19 इंश्योरेंस पॉलिसी  के फायदों के बारे में ज्यादा जानें

हेल्थ इंश्योरेंस और लाइफ इंश्योरेंस के बीच अंतर

लाइफ इंश्योरेंस हेल्थ इंश्योरेंस
लाइफ इंश्योरेंस कॉम्प्रिहेंसिव कवर है जो आपको पूरे जीवन इंश्योरेंस देता है, ये किसी खास अवधि तक सीमित नहीं होता है। असल में इससे इंश्योर्ड की निधन की स्थिति में कवरेज मिलती है, इसमें इंश्योर की हुई राशि लाभार्थी के पास जाती है। आमतौर पर इंश्योरेंस आपकी मेडिकल/सर्जिकल/अस्पताल से जुड़ी जरूरतों को पूरा करता है। जरूरत होने पर सिर्फ मेडिकल इमर्जेंसी कवर देता है। ये आपके मेडिकल खर्चों से आगे नहीं जाता है।
चुने हुए लाइफ इंश्योरेंस के आधार पर प्रीमियम निश्चित और लचीले दोनों होते हैं। बेहतर नगद मूल्य के लिए कुछ लाइफ इंश्योरेंस भविष्य में निवेश की मूल्य नीतियों के साथ भी आते हैं। ज्यादातर प्रीमियम निश्चित होता है। हेल्थ इंश्योरेंस मेडिकल इमर्जेंसी के दौरान हुए खर्चों से कवरेज देता है। इन प्लान का मकसद निवेश नहीं बल्कि सुरक्षा होता है। कुछ मामलों में नो-क्लेम बोनस का दावा किया जा सकता है।
लाइफ इंश्योरेंस एक लॉन्ग-टर्म प्लान है। हेल्थ इंश्योरेंस एक शॉर्ट-टर्म प्लान है।
लाइफ इंश्योरेंस आमतौर पर निश्चित अवधि के लिए होता है। एक बार इंश्योरेंस की अवधि पूरी हो जाने पर आमतौर पर ये समाप्त हो जाता है। इस तरह के इंश्योरेंस की अवधि निश्चित नहीं होती है। साधारण परिस्थितियों में इंश्योर्ड पॉलिसी को सालाना रिन्यू करा लेता है ताकि उन्हें इसमें ऑफर होने वाली सुरक्षा कवरेज मिलती रहे।
इंश्योर्ड की मृत्यु हो जाने की स्थिति में लाइफ इंश्योरेंस आपके परिवार/लाभार्थी/नॉमिनी को खासतौर पर आर्थिक सुरक्षा देता है। हेल्थ इंश्योरेंस आपके साथ आपके परिवार के लिए सुरक्षा कवर है ताकि आर्थिक तंगी के कारण जानमाल के नुकसान जैसी किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना से बचा जा सके।
आपकी ओर से चुने गए इंश्योरेंस के आधार पर लाइफ इंश्योरेंस इंश्योरेंस अवधि खत्म होने के समय सर्वाइवल और मृत्यु फायदे देता है। हेल्थ इंश्योरेंस में सर्वाइवल और मृत्यु फायदे नहीं मिलते हैं, ये सिर्फ आपकी मौजूदा मेडिकल जरूरतों और इलाज को ही पूरा करता है।
कुछ मामलों में थोड़े अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करके, आपकी निवेश की हुई राशि मैच्योरिटी के समय पॉलिसी अवधि समाप्त कर लेने पर आपके पास करमुक्त वापस आ जाती है। पॉलिसी अवधि पूरी हो जाने पर कोई भी राशि वापस नहीं की जाती है। राशि सिर्फ रीइंबर्समेंट के तौर पर वापस आती है वो भी आपकी बीमारी के दौरान हुए या मेडिकल जरूरतों के लिए आपकी ओर से किए गए खर्चों के लिए।

लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस के फायदे

लाइफ इंश्योरेंस प्लान के फायदे

  • आर्थिक सुरक्षा लाइफ इंश्योरेंस का सबसे अहम फायदा है।

  • भुगतान आमतौर पर करमुक्त होता है।

  •  मृत्यु के निश्चित फायदे।

  • लाइफ इंश्योरेंस में कर से जुड़े फायदे मिलते हैं हालांकि टर्म पॉलिसी खरीदने का मकसद कर बचाना नहीं होना चाहिए।  कर से जुड़े कानूनों के मुताबिक ये पॉलिसी कर लाभ और छूट देती है।

हेल्थ इंश्योरेंस प्लान के फायदे

बिना किसी आर्थिक दबाव के सबसे अच्छी मेडिकल सुविधा लेना हेल्थ इंश्योरेंस का खास मकसद है।  हेल्थ इंश्योरेंस अनपेक्षित मेडिकल इमर्जेंसी के लिए सुरक्षा देता है।

एक बार में भुगतान किया गया प्रीमियम इंश्योरेंस कवरेज के कई सालों में कर के फायदे देता है। हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी से मिलने वाला ये सिर्फ एक फायदा है। इंश्योरेंस करने वाली कंपनी जीवन में असमय आई परिस्थिति के दौरान ग्राहक की मदद करने के लिए कुछ और फायदों के साथ ऐड-ऑन भी देती हैं।

 

  • बहाली के फायदे - ये आपके हेल्थ इंश्योरेंस में एक कवरेज है जिसमें अगर बीमारी का इलाज कराते हुए आपकी इंश्योर की गई राशि इस्तेमाल हो जाती है तो इंश्योरेंस कंपनी इसे बहाल कर देती है। हेल्थ इंश्योरेंस में बहाली के फायदों के बारे में ज्यादा

  • गंभीर बीमारी के लिए कवर - अगर इसे ऐड-ऑन या प्लान के हिस्से के तौर पर चुना जाता है तो ये कवर गंभीर बीमारी के मामले में अस्पताल के खर्चों को कवर करता है। 

  • डेली हॉस्पिटल कैश कवर -ये कवर मेडिकल इमर्जेंसी के मामले में अस्पताल के बिल से इतर हुए खर्चों को वहन करने में मदद करता है।

  • मातृत्व लाभ - ये फायदा मां बनने वाली महिला के प्रसव के लिए भर्ती होने पर अस्पताल में भर्ती होने के साथ इससे जुड़े सभी खर्चों का ध्यान रखता है। किसी भी तरह की परेशानी होने पर किए गए इलाज के खर्चे भी इसमें कवर होते हैं। 

  • घर पर होने वाला इलाज - अगर आपके माता-पिता या परिवार के किसी सदस्य को उस स्थिति में घर पर इलाज की जरूरत है, जिसमें उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ सकता है तो ये फायदा आपके लिए ही है।

  • अस्पताल में भर्ती करने के पहले और बाद के खर्चे - हम जानते हैं कि कुछ ऐसे खर्चे होते हैं जो आमतौर पर हेल्थ इंश्योरेंस में कवर नहीं होते हैं जैसे एक्स-रे, स्कैन, दवाएं, हम ये सुनिश्चित करते हैं कि इन खर्चों का भी ध्यान रखा जाए।

  • दुर्घटना के बाद अस्पताल में भर्ती होना - ये फायदा  दुर्घटना के मामले में एंबुलेंस का खर्चा, डेकेयर प्रक्रिया, अस्पताल में भर्ती होने के पहले और बाद के खर्चे को कवर करता है, इसमें आईसीयू, दवाएं, ओटी, फिजिशियन की फीस वगैरह भी शामिल है।

     

लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस उन सभी लोगों के लिए हैं जो परिवार और अपने करीबियों के भविष्य की चिंता करते हैं।  हेल्थ इंश्योरेंस में मेडिकल मामले कवर होते हैं और लाइफ इंश्योरेंस आपकी अनुपस्थिति में आपके परिवार को कवर करता है।

जीवन में कभी भी कुछ भी हो सकता है, इसलिए अच्छा है कि आप खुद के साथ अपनों की सुरक्षा के बारे में सोचें।  ये दोनों ही इंश्योरेंस पॉलिसी हम सभी के लिए जरूरी हैं।  आप किसका चुनाव करते हैं, ये अब आपका व्यक्तिगत निर्णय है।