व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस

डिजिट हेल्थ इंश्योरेंस दुर्घटना, बीमारी और कोविड-19 के कारण अस्पताल में भर्ती होने पर कवर देता है।
Happy Couple Standing Beside Car
{{healthCtrl.residentPincodeError}}
Send OTP OTP Sent {{healthCtrl.mobileNumberError}}

I agree to the  Terms & Conditions

Port my existing Policy
{{healthCtrl.residentPincodeError}}
Send OTP OTP Sent {{healthCtrl.mobileNumberError}}
{{healthCtrl.otpError}}
Didn't receive SMS? Resend OTP

I agree to the  Terms & Conditions

Port my existing Policy

YOU CAN SELECT MORE THAN ONE MEMBER

{{healthCtrl.patentSelectErrorStatus}}

  • -{{familyMember.multipleCount}}+ Max {{healthCtrl.maxChildCount}} kids
    (s)

DONE
Renew your Digit policy instantly right
Loader

Analysing your health details

Please wait moment....

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस क्या है?

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस युवाओं के लिए तैयार की गई हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है जिसमें वो तमाम तरह की बीमारियों, अस्पताल में भर्ती होने, बच्चे के जन्म वगैरह के खर्च और जीवन में आने वाली छोटी-बड़ी स्वास्थ्य समस्याओं पर कवर पा सकते हैं।

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी को युवाओं के लिए बनाया गया है। इसमें परिवार शामिल नहीं है। फिर भी, आप अपने प्लान को कस्टमाइज करके इसमें अपने पर आश्रित परिजनों, जैसे बुजुर्ग माता पिता, जीवनसाथी और बच्चों को शामिल कर सकते हैं।

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी से मिलने वाले मेडिकल लाभ और टैक्स में फायदों के कारण आज ज्यादा से ज्यादा लोग इसे खरीद रहे हैं।

क्योंकि कितनी भी दाल-रोटी आप खा लें, इससे सेहत और संपत्ति पूरी तरह सुरक्षित नहीं कर सकती।

यह बेहद महत्वाकांक्षी लेकिन तनाव में जीने वाली पीढ़ी के लिए है। यह उनके लिए है जो बिना किसी समझौते के दुनिया पर राज करना चाहते हैं। उनके लिए है जो स्वास्थ्य के लिए सतर्क होते जा रहे और अपनी शारीरिक और मानसिक सेहत दोनों को तवज्जो देते हैं। उनके लिए है जिन्हें आराम और पैसा पसंद है, जिनके पास एक क्लिक की दूरी पर सबकुछ मौजूद है।

Read More

अपनी सेहत की सुरक्षा अब पहले से ज्यादा जरूरी क्यों है?

Mental health issues
राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य सर्वेक्षण के मुताबिक भारत में हर छठे व्यक्ति को मानसिक स्वास्थ्य के लिए देखभाल की जरूरत है।
Breast cancer
भारत में (40 साल से कम उम्र की) महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के मामले सबसे ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं। ये वैश्विक औसत से ज्यादा है।
Chronic Obstructive Pulmonary disease
दिल की बीमारियों के बाद क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मनरी डिजीज भारत में हो रहीं सबसे ज्यादा मौतों का कारण है।

डिजिट के व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस में क्या खास है?

  • डिजिटल फ्रेंडली प्रक्रिया- हेल्थ इंश्योरेंस खरीदने से क्लेम करने तक की पूरी प्रक्रिया पेपर-रहित, आसान, तेज और बिना रुकावट वाली है। क्लेम के लिए भी किसी कागज पेपर की जरूरत नहीं पड़ती।
  • अतिरिक्त कीमत का इंश्योरेंस होता है- दुर्घटना या गंभीर बीमारी में अस्पताल में भर्ती होने पर जीरो कॉस्ट, यानी आपका कुछ भी खर्च नहीं होगा।
  • महामारी का कवर- हमें पता है कि लोग कोरोनावायरस से डरे हुए हैं, इसलिए हम इसे कवर करते हैं।
  • उम्र आधारित सह-भुगतान (को-पेमेंट) नहीं- हमारे प्लान में उम्र के आधार पर को-पेमेंट नहीं होता है। इसका मतलब है कि क्लेम के वक्त आपको अपनी जेब से कुछ भी खर्च करने की जरूरत नहीं पड़ती।
  • रूम रेंट का बंधन नहीं- हर किसी की अपनी प्राथमिकताएं होती हैं और हम इसे समझते हैं। इसलिए हमारे यहां रूम रेंट का बंधन नहीं है। आप अपनी पसंद से अस्पताल में कोई भी कमरा ले सकते हैं।
  • दोगुने इंश्योरेंस राशि की सुरक्षा- अगर आपके इंश्योरेंस की पूरी रकम खत्म हो जाती हैं और दुर्भाग्यवश आपको उसी साल और रुपयों की जरूरत पड़ती है, तो हम आपके लिए प्लान को रीफिल कर सकते हैं।
  • संचित (क्यूमुलेटिव) बोनस- स्वस्थ्य रहने का ईनाम! सालाना संचित बोनस पाएं।
  • किसी भी अस्पताल में इलाज करवाएं- भारत में हमारे 6400+ नेटवर्क अस्पतालों में कैशलेस क्लेम करें या प्रतिपूर्ति (रिइंबर्समेंट) यानी बिल जमाकर पैसे वापस पाने का विकल्प चुनें।

डिजिट के व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस में क्या कवर किया जाता है?

दुर्घटना होने पर अस्पताल में भर्ती

दुर्घटना होने पर अस्पताल में भर्ती

दुर्घटना होने पर अस्पताल में भर्ती होने के पहले और बाद के इलाज के सारे खर्चों को कवर किया जाता है।

बीमारी होने पर अस्पताल में भर्ती

बीमारी होने पर अस्पताल में भर्ती

कभी-कभी कुछ बीमारियों में अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है। भर्ती होने पर बीमारी के इलाज पर आए सारे खर्चों को इसमें कवर किया जाता है।

मैटर्निटी और इंफर्टिलिटी संबंधी खर्च

मैटर्निटी और इंफर्टिलिटी संबंधी खर्च

मैटर्निटी और इंफर्टिलिटी से जुड़े सभी तरह के खर्चों को कवर किया जाता है। जैसे, बच्चे का जन्म, सी-सेक्शन, मेडिकल कारणों से कराया जरूरी गर्भपात, नवजात बच्चे का टीकाकरण वगैरह इसमें शामिल हैं।

अस्पताल में भर्ती होने के पहले और बाद के खर्च

अस्पताल में भर्ती होने के पहले और बाद के खर्च

अगर आपको अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है तो यह पॉलिसी आपके अस्पताल में भर्ती होने और इलाज के सारे खर्च को कवर करती है।

गंभीर बीमारियों में फायदा

गंभीर बीमारियों में फायदा

यह कैंसर, हार्ट अटैक, लकवा, किडनी फेल होने या इस तरह की दूसरी गंभीर बामारी के कारण होने वाले खर्च को कवर करती है।

अस्पताल के रोजाना के खर्चे

अस्पताल के रोजाना के खर्चे

अस्पताल में भर्ती होने पर अस्पताल के बिल के अलावा भी कई तरह खर्चे होते हैं। इन खर्चों को कवर करने में फायदा मिलता है।

सालाना स्वास्थ्य जांच

सालाना स्वास्थ्य जांच

अच्छी सेहत का पहला कदम है सजग रहना। दूसरे साल से ही सालाना मेडिकल टेस्ट पर प्रतिपूर्ति (रिइंबर्समेंट) पाना शुरू करें।

मनोरोग में मिलने वाले फायदे

मनोरोग में मिलने वाले फायदे

मनोरोग से जुड़ीं समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। इसलिए इस पॉलिसी में आपको ट्रॉमा या दूसरी मानसिक बीमारी के कारण अस्पताल भर्ती होने के पर कवर किया जाएगा।

और भी दूसरे फायदे

और भी दूसरे फायदे

बदलते समय के साथ डिजिट भी बदल गया है। आपको पूरी तरह स्वास्थ्य लाभ देना सुनिश्चित करने के लिए हमारे दूसरे हेल्थ इंश्योरेंस में बेरिएट्रिक सर्जरी, अंग दान, बुजुर्ग माता-पिता के लिए आयुष (AYUSH) के तहत इलाज, और अस्पताल में भर्ती होने के बाद के एकमुश्त खर्च को कवर किया जाता है।

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस में मिलने वाले अतिरिक्त कवर

मैटर्निटी लाभ के साथ इंफर्टिलिटी के इलाज के फायदे

पहले दो बच्चों के डिलीवरी और बच्चे के जन्म खर्चों को कवर करता है। इसमें इंफर्टिलिटी का इलाज, मेडिकल कारणों से कराया जरूरी गर्भपात, और जन्म के शुरुआती 90 दिनों तक बच्चे की सुरक्षा शामिल है।

जोन अपग्रेड

हमने अपने प्लान को अलग अलग सिटी जोन में बांटा है। ऐसा इसलिए क्योंकि हर शहर के मेडिकल खर्च अलग होते हैं। अगर आप अपने शहर की जगह ऐसे शहर में इलाज करवाना चाहते हैं जहां खर्च ज्यादा है तो आप अपग्रेड करवा सकते हैं।

आयुष (आयुर्वेद, यूनानी, सिद्ध या होम्योपैथी)

इसमें आपके बुजुर्ग माता-पिता के आयुर्वेद, यूनानी, सिद्ध या होम्योपैथी जैसी वैकल्पिक पद्धति से इलाज में होने वाले खर्चों को भी कवर किया जाएगा।

क्या कवर नहीं किया जाता?

प्रसव के पहले और बाद के खर्च

अगर अस्पताल में भर्ती होने की नौबत न आए तो प्रसव के पहले और बाद के खर्चों को कवर नहीं किया जाएगा।

पहले से मौजूद बीमारी

पहले से मौजूद बीमारी में वेटिंग पीरियड खत्म होने से पहले उस बीमारी के लिए क्लेम नहीं लिया जा सकता।

डॉक्टर की सलाह के बिना भर्ती होना

ऐसी कोई भी परिस्थिति जिसमें आप डॉक्टर की सलाह के बिना भर्ती होते हैं, उसे कवर नहीं किया जाएगा।

क्लेम कैसे फाइल करें?

  • प्रतिपूर्ति (रिइंबर्समेंट) क्लेम- अस्पताल में भर्ती होने पर 1800-258-4242 पर दो दिनों के अंदर हमसे संपर्क करें या हमें healthclaims@godigit.com पर मेल भेजें। हम आपको लिंक भेजेंगे जहां आप अपने अस्पताल के बिल और दूसरे जरूरी डॉक्यूमेंट अपलोड कर सकेंगे।
  • कैशलेस क्लेम- सबसे पहले नेटवर्क अस्पताल चुनें। आप नेटवर्क अस्पतालों की पूरी लिस्ट यहां देख सकते हैं। अस्पताल की डेस्क पर अपना ई-हेल्थ कार्ड दिखाएं और कैशलेस रिक्वेस्ट फॉर्म मांगें। अगर सब कुछ ठीक रहा, तो आपके क्लेम पर उसी समय कार्रवाई की जाएगी।
  • अगर आपने कोरोनावायरस के लिए क्लेम किया है तो सुनिश्चित कर लें कि आपके पास आईसीएमआर (ICMR) के अधिकृत केंद्र- नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी, पुणे से मंंजूरी प्राप्त पॉजिटिव टेस्ट रिपोर्ट हो।

डिजिट के व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस के मुख्य लाभ

सह-भुगतान (को-पेमेंट)

उम्र के हिसाब से कोई कोपेमेंट नहीं।

कैशलेस अस्पताल

भारत में 6400+ कैशलेस अस्पताल

संचित बोनस

आपके पहले क्लेम-फ्री साल के लिए 20% अतिरिक्त इंश्योरेंस राशि

रूम रेंट की सीमा

रूम रेंट का कोई बंधन नहीं। अस्पताल में अपनी पसंद का कोई भी कमरा चुनें।

युवाओं के लिए हेल्थ इंश्योरेंस जरूरी क्यों है?

युवाओं में जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों की बढ़ती संख्या

युवाओं में जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों की बढ़ती संख्या

जीवनशैली से संबंधित बीमारियां, जैसे कि पीसीओएस (PCOS), मोटापा, टाइप 2 डायबिटीज वगैरह बढ़ती जा रही हैं। खास तौर पर नौजवानों में। डायग्नोसिस से इलाज तक हर स्थिति में व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस आपको इन सभी से सुरक्षा देगा।

मानसिक सेहत की बढ़ती समस्याएं

मानसिक सेहत की बढ़ती समस्याएं

भारत में खास तौर पर 40 साल से कम उम्र के लोगों के बीच मानसिक सेहत की समस्याएं बढ़ती जा रही हैं। हमारे हेल्थ इंश्योरेंस में मानसिक बीमारियों के इलाज से जुड़े लाभ को भी शामिल किया गया है, ताकि सिर्फ शारीरिक ही नहीं, मानसिक सेहत का भी ध्यान रखा जा सके।

बचत को बढ़ाता है

बचत को बढ़ाता है

हेल्थ इंश्योरेंस खरीदने का मतलब है कि आपको बढ़ते स्वास्थ्य खर्च की चिंता करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आपकी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी इसको कवर करेगी। इस दौरान आप अपनी बचत को और बढ़ा सकते हैं।

संपूर्ण सेहत में सुधार

संपूर्ण सेहत में सुधार

हेल्थ इंश्योरेंस से आपकी पूरी सेहत को फायदा मिलता है, क्योंकि मेडिकल इमर्जेंसी के दौरान आपको कवर मिलने के साथ ही सालाना स्वास्थ्य जांच के लिए भी कवर मिलता है, जिससे आप किसी संभावित समस्या से बच सकते हैं।

टैक्स में बचत

टैक्स में बचत

हेल्थ इंश्योरेंस होने की एक अच्छी बात यह भी है कि इसका प्रीमियम भुगतान करने पर आप इनकम टैक्स में छूट के लिए दावा कर सकते हैं।

सस्ते प्रीमियम

सस्ते प्रीमियम

युवाओं को जल्द से जल्द हेल्थ इंश्योरेंस लेने की सलाह दी जाती है। इससे आपकी प्रीमियम राशि कम हो जाती है और गंभीर बीमारियों के लिए आपका वेटिंग पीरियड भी जल्द खत्म हो जाता है।

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस के बारे में और जानें

व्यक्तिगत हेल्थ इंश्योरेंस से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले सवाल